Wednesday, July 30, 2014

हरिद्वार आटो यात्रा : कनखल ( haridwar auto yatra - 3 )

प्रस्तुतकर्ता : हरेन्द्र धर्रा
इस यात्रा को शुरू से पढ़ने के लिए क्लिक करे 
हरिद्वार जानें के बजाय हम लोग भोले की ससुराल यानी के कनखल पहुंचे जो हरिद्वार से तीन चार कि मी है  | काँवड़ के मौसम में हरिद्वार में बहुत भीड़ होती है जबकी कनखल में बहुत शांति होति है |
                 हमारे गाँव से आई चार और गाड़ियां भी कनखल में ही थी हमनें भी आटो उन्ही के पास कनखल के राजघाट पर स्थित पंचायती अखाड़ा बड़ा उदासीन जिसे बड़ा अखाड़ा भी बोलते हैं के सामनें रोक दिया |
                  यही वो हवेली है जहाँ अर्जुन पंडित फिल्म की शूटिंग हुई थी |
                  दोस्तों से मेल मिलाप के बाद हम नहाने के लिए चल दिये | गंगा के ठंडे पानी में नहाने के बाद सारे सफर की थकावट उतर जाती है | तरोताजा होकर भोजन की तैयारी कर दी गई | पेटपूजा के बाद दोपहर को राजघाट पर मंदिर की छांव में दो गद्दे डालकर नींद निकाली गई | थोड़ी देर बाद कुछ दोस्तों का शोर सुनकर नींद टूटी तो पता चला की अभी अभी हमारे पास से नागदेवता निकले थे | भाग कर पुल से दूसरी तरफ जाकर नागदेवता के दर्शन किये | वाह भोले ! पहले दिन ही दर्शन दे दिये |
                पूरा दिन आराम किया गया |
बारी अगली पोस्ट में .................. .....  .  .       .
गंगाजी की गोद में
कनखल राजघाट पर आरामकनखल का डाकघर  ( हालत देखकर लगता है २०० साल पुराना है )

बड़ा अखाड़ा जिसे अर्जुन पंडित फिल्म में हवेली दिखाया गया है |



No comments:

Post a Comment